चीन की नई चाल…

चीन की नई चाल…

495
0
SHARE
तीन दिवसीय बीआरआई सम्मेलन के दौरान चीन के वाणिज्य मंत्रालय ने नया नक्शा जारी किया है जिसमें, अरुणाचल प्रदेश और पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर(POK) को भारत का हिस्सा दिखाया है.फोटो:-गूगल.

गुरुवार से बीजिंग(चीन) में दूसरा तीन दिवसीय बीआरआई (BRI) सम्मेलन शुरू हुआ . इस सम्मेलन में दुनिया भर के 37 देशों के प्रतिनिधि शिरकत कर रहे हैं. भारत ने पहले की तरह इस बार भी इस सम्मेलन का बहिष्कार किया है. ज्ञात है कि, बीआरआई (BRI) के तहत चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा कहकर भारत इसका हमेशा विरोध करता रहा है कि यह हमारी सम्प्रभुता का उल्लघन है. अमेरिका ने भी इस बार इस फोरम के बहिष्कार करने का फैसला किया है.

इकोनोमिक्स टाइम्स की खबरों के अनुसार, तीन दिवसीय बीआरआई (BRI) सम्मेलन के दौरान चीन के वाणिज्य मंत्रालय ने नया नक्शा जारी किया है जिसमें अरुणाचल प्रदेश और पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (POK) को भारत का हिस्सा दिखाया है. नये नक्शे के अनुसार, बीआरआई (BRI) परियोजना में भारत को भी भागीदार के तौर पर प्रदर्शित किया है.

बतातें चलें कि, जम्मू-कश्मीर का कुछ हिस्से पर पकिस्तान का कब्जा है जिसे पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (POK) कहा जाता है तो दूसरी तरफ अरुणाचल प्रदेश एक हिस्से जो तवांग और उससे लगे इलाकों पर चीन अपनी दाबेदारी जताता रहा है और उसे दक्षिणी तिब्बत कहता रहा है. नये नक्शे के अनुसार उसे भारत का हिस्सा दिखाया गया है.

ज्ञात है कि, चीन की बीआरआई (BRI) परियोजना का मुख्य मकसद है राजमार्गों, रेल लाइनों, बंदरगाहों और सी-लेन के नेटवर्क के माध्यम से एशिया, अफ्रीका और यूरोप को जोड़ना. इस परियोजना के तहत चीन और पाकिस्तान के बीच बन रहा आर्थिक गलियारा (सीपीईसी) भी इसी परियोजना का हिस्सा है. भारत इस परियोजना का लगातार विरोध कर रहा है चुकिं चीन की परियोजना उन क्षेत्रों से गुजर रही है जिसे भारत अपना भौगोलिक क्षेत्र मानता है.

बताते चलें कि, पिछले दिनों हुई पुलवामा घटना के बाद चीन लगातार आतंकी हाफिज सईद और पाकिस्तान को अंतराष्ट्रीय स्तर पर लगातार बचाने की हर संभव कोशिस की. लेकिन, पकिस्तान और चीन का दोहरा चरित्र दुनिया के सामने आया. अब एक बार फिर से बीआरआई (BRI) सम्मेलन में चीन ने अपनी नई चाल की पहली झलक पेश कर दुनिया के सामने अपने दोहरे चरित्र को उजागर करने की कोशिस की है.