क्यों फड़कती है आखें…

क्यों फड़कती है आखें…

72
0
SHARE
पलकों का फड़कना एक सामान्य प्रक्रिया है जो कुछ समय के बाद अपने आप ही बंद भी हो जाता है. फोटो:-गूगल.

पलकों का फड़कना एक आम प्रक्रिया होती है. बताते चलें कि, इसमें आंखों के आसपास की मांसपेशियां अपने आप संकुचित होने लगती हैं, जिससे बहुत ही परेशानी महसूस होती है, लेकिन इससे मानव शरीर पर कोई भी नुकसान नहीं होता है. पलकों का फड़कना एक सामान्य प्रक्रिया है जो कुछ समय के बाद अपने आप ही बंद भी हो जाता है. विशेषज्ञ के अनुसार इसका संबंध थकान से होता है.

विशेषज्ञ के अनुसार, नींद की कमी या चाय व कॉफ़ी का ज्‍यादा प्रयोग, कम रोशनी में काम करना या देर तक कम्प्यूटर पर काम करना भी इसके कारण हो सकते हैं. आंख फड़कने का मतलब होता है कि, आपकी मांसपेशियां थक गई हैं और उन्हें आराम देने की जरूरत होती है. जब भी इस तरह की समस्या से आप परेशान हो तो आप अपने आंखों के आसपास की मांसपेशियों की हल्की मालिश करें या  गर्म या ठंडी पट्टी लगायें, आंखों को गुनगुने पानी से धोना चाहिए. इससे आपको पलकों के फड़कने से होनेवाली परेशानी से निजात मिल जाता है.