करतारपुर साहिब कॉरिडोर की आधारशिला रखी गई…

करतारपुर साहिब कॉरिडोर की आधारशिला रखी गई…

9
0
SHARE
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने दुश्मनी भूल कर दोस्ती की बात दोहराई. फोटो:-गूगल.

बुधवार को सिखों के पवित्र स्थल करतारपुर साहिब कॉरिडोर की आधारशिला के मौके पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने दुश्मनी भूल कर दोस्ती की बात दोहराई. इस पावन और पवित्र मौके पर पाक पीएम खान ने कश्मीर का मुद्दा उठाना नहीं भूले. इस मौक़े पर भारत की ओर से पंजाब सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू और केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल मौजूद थीं.

करतारपुर साहिब कॉरिडोर की आधारशिला के मौके पर पाक पीएम खान ने कहा कि, 70 सालों से हम ऐसे ही हालात देख रहें हैं. आज पाकिस्तान में हमारी पार्टी, फौज और विपक्ष आगे बढ़ना चाहते हैं और हमारा मसला एक है कश्मीर का. उन्होंने कहा कि, इंसान चाँद पर पहुंच गया और हमसब एक मसला हल नहीं कर सकते हैं.

पाक पीएम खान ने फ्रांस और जर्मनी की खुली सीमाओं का जिक्र करते हुए कहा कि, एक समय ऐसा था कि, दोनों देशों के बीच कितनी लड़ाईयां लड़ी और आज दोनों देशों के बीच खुली सीमाएं हैं. उनके बीच जंग की आज सोच भी नहीं है. फ़्रांस और जर्मनी यूरोपिय यूनियन बनाकर आगे बढ़ सकते हैं तो हम क्यों नहीं. हम ये जंजीर तोड़ देंगे जिससे दोनों मुल्क आगे बढ़ सकते हैं. पाक पीएम ने कहा कि, “मैं इस मौक़े का फ़ायदा उठाते हुए कहता हूं कि हिंदुस्तान एक क़दम आगे बढ़ाएगा तो हम दो क़दम आगे बढ़ेंगे.”

पाक पीएम खान ने सिद्धू की पिछली पाकिस्तान यात्रा के बाद भारत में हुई उनकी खिंचाई पर जिक्र करते हुए कहा कि, “जब सिद्धू जब वापस गए तो इनके ऊपर बड़ी आलोचना हुई. जब एक इंसान दो मुल्कों के बीच दोस्ती और प्यार की बात कर रहा हो तो, वो कौन सा जुर्म कर रहा है. पाक पीएम ने कहा कि, जब दोनों देशों के पास एटमी हथियार हैं तो इससे साफ़ होता है कि,  इन दोनों देशों के बीच जंग तो हो नहीं सकती तो ऐसे सिर्फ दोस्ती हो सकती है.”

करतारपुर साहिब कॉरिडोर की आधारशिला के मौके पर पंजाब सरकार के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि, हिंदुस्तान जीवे, पाकिस्तान जीवे, मुझे कोई डर नहीं, मेरा यार इमरान जीवे. सिद्धू ने कहा कि उन्होंने कहा कि, अब खून-ख़राबा बंद होना चाहिए और सभी को अपनी सोच भी बदलनी पड़ेगी, तभी शांति कायम होगी.

पंजाब सरकार के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि, कॉरिडोर दोनों देशों के लोगों के बीच में संपर्क बढ़ाएगा और जो संपर्क टूटा हुआ था वो अब दोबारा जुड़ रहा है. उन्होंने उम्मीद जताते हुए कहा कि करतारपुर कॉरिडोर भारत-पाकिस्तान के बीच सेतु का काम करेगा और आपसी दुश्मनी कम करेगा. उन्होंने इस गलियारे को संभावनाओं, शांति और समृद्धि का कॉरिडोर कहा.

भारत सरकार की तरफ़ से केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर ने अपनी पूरी श्रद्धा जताते हुए कहा कि, 70 साल से हर सिख की यह इच्छा थी कि, यहां आकर नमन करने का मौक़ा मिला. उन्होंने कहा कि, हम चार किलोमीटर की दूरी से यहां नमन करते हैं साथ ही कहा कि, “मैं उस अरदास के साथ आई हूं कि मेरे जैसे अरदास करने वालों को भी यह मौक़ा मिले”.उन्होंने कहा कि, यह गुरुद्वारा सिखों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है क्योंकि, गुरुनानक देव ने अपने जीवन के 18  साल यहां गुजारे थे.

केंद्रीय मंत्री कौर ने कुछ मांगें भी इमरान ख़ान सरकार के सामने रखते हुए कहा कि, “हिंदुस्तान की सरकार की तरह गुरुनानक के नाम पर सिक्का या पोस्टेज स्टाम्प आप भी चला लें. भारत की ही तरह यहां भी ट्रेन से सिखों के सभी धार्मिक स्थलों को जोड़ें.” केंद्रीय मंत्री कौर ने पाक पीएम खान से करतारपुर शहर को बसाने का अनुरोध भी किया.