एंटी सैटेलाइट मिसाइल के परीक्षण करने के बाद भारत चौथी महाशक्ति बना…

एंटी सैटेलाइट मिसाइल के परीक्षण करने के बाद भारत चौथी महाशक्ति बना…

118
0
SHARE
मिशन शक्ति ने दिखा दिया है कि भारत 300 किलोमीटर की ऊंचाई पर भी किसी सक्रिय सैटेलाइट को मार गिराने की क्षमता रखता है. फोटो:-गूगल.

बुधवार को भारत ने अन्तरिक्ष में अपना कामयाबी का परचम लहराते हुए दुनिया की चौथी महाशक्ति बन गया.पीएम मोदी ने कहा कि, मिशन शक्ति की सफलता के साथ अमेरिका, चीन, रूस के बाद भारत दुनिया का चौथा सबसे शक्तिशाली देश बन गया है.

भारत ने एक काइनेटिक हथियार का इस्तेमाल कर एक लो अर्थ ऑर्बिट) सैटेलाइट को मार गिराया है. मिशन शक्ति  ने दिखा दिया है कि भारत 300 किलोमीटर की ऊंचाई पर भी किसी सक्रिय सैटेलाइट को मार गिराने की क्षमता रखता है. बताते चलें कि, वर्तमान समय में भारत के पास 48 उपग्रह है और वो कक्षा में चक्कर कट रहे हैं. इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में उपग्रहों को सबसे बड़ा ज़खीरा है, जिसकी सुरक्षा किया जाना बेहद ज़रूरी है.

पीएम मोदी ने बुधवार को राष्ट्र के नाम संबोधन में भारत की अंतरिक्ष की दुनिया में बनाए गए नए कीर्तिमान की जानकारी देते हुए बताया कि भारत ने आज कुछ समय पहले बड़ी उपलब्धि हासिल की है, जिसमें भारत ने अंतरिक्ष में एक सैटेलाइट को मार गिराया है. भारत ने इस मिशन को ‘मिशन शक्ति’ का नाम दिया है. इस कामयाबी के बाद पाकिस्तान में खलबली मच गई और उसने अंतराष्ट्रीय समुदाय को इस परीक्षण को देखने की मांग की है.

पीएम मोदी ने कहा कि भारत ने एक बड़ी उपलब्धि हासिल करते हुए अपना नाम अंतरिक्ष पावर के रूप में दर्ज करा लिया है. इससे पहले दुनिया के तीन देश अमेरिका, चीन रूस को पहले से यह उपलब्धि हासिल थी, मगर आज भारत आज चौथा देश बन गया. हर हिंदुस्तानी के लिए इससे बड़ा गर्व का पल नहीं हो सकता है. कुछ समय पहले हमारे वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष में 300 किलोमीटर एलओ सैटेलाइट को मार गिराया. उन्होंने कहा कि, हम विश्व शांति के प्रयास में हैं.

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) के एक वैज्ञानिक ने कहा कि, भारत के पास एन्टी-सैटेलाइट टेस्ट करने की क्षमता कम से कम पिछले दस साल से मौजूद है. वहीं इसरो के पूर्व अध्यक्ष ने कहा कि 300 किलोमीटर की ऊंचाई पर भारत द्वारा किए गए इस टेस्ट से अंतरिक्ष में मलबा जमा होने की संभावना नहीं है.