आईएनएस विक्रमादित्य में लगी आग को बुझाने में एक अधिकारी हुआ शहीद…

आईएनएस विक्रमादित्य में लगी आग को बुझाने में एक अधिकारी हुआ शहीद…

469
0
SHARE
नौसेना के सबसे बड़े विमानवाहक पोत आईएनएस विक्रमादित्य पर अचानक आग लग गई और आग बुझाने के दौरान नौसेना अधिकारी की मौत हो गई.फोटो:-गूगल.

शुक्रवार को भारतीय नौसेना के सबसे बड़े विमानवाहक पोत आईएनएस विक्रमादित्य पर अचानक आग लग गई. आग बुझाने के दौरान नौसेना अधिकारी की मौत हो गई.

यह घटना उस वक्त घटी जब आईएनएस विक्रमादित्य कर्नाटक के कारवार में हार्बर में दाखिल हो रहा था. लेफ्टिनेंट कमांडर डीएस चौहान आग बुझाने के काम का नेतृत्व कर रहे थे. नौसेना ने कहा कि, आग पर तुरंत काबू पा लिया गया लेकिन इस दौरान नौसेना अधिकारी धुएं और आग की लपटों की वजह से अचेत हो गए. उन्हें तुरंत ही कारवार के नेवी अस्पताल ले जाया गया लेकिन, उन्हें बचाया नहीं जा सका.

नौसेना ने बताया कि, जहाज की लड़ाकू क्षमता किसी भी तरह का नुकसान नहीं पहुंचा है. आग लगने की घटना की जांच के आदेश दे दिए गए हैं. बताते चलें कि, आईएनएस विक्रमादित्य पर यह पहली घटना नहीं है इससे पहले भी वर्ष 2016 में जहरीली गैस लीक होने से नौसेना के 02 कर्मियों की मौत हो गई थी.

आईएनएस विक्रमादित्य एक तैरता हुआ शहर है जो लगातार 45 दिनों तक समुद्र में रह सकता है. इसका आकार तीन फुटबॉल ग्राउंड के बराबर है  इसकी हवाई पट्टी 284 मीटर लंबी और 60 मीटर चौड़ी है. बतातें चलें कि, युद्धपोत एडमिरल गोर्शकोव 1987 में यह तत्कालीन सोवियत नेवी में शामिल हुआ था. 2.3 अरब डॉलर की लागत का यह विमानवाहक पोत जनवरी 2014 में रूस से भारत पहुंचा था. उज्जैन के महान सम्राट विक्रमादित्य के सम्मान में इसका दोबारा नामकरण किया गया और नया नाम आईएनएस विक्रमादित्य रखा गया.