अपॉर्चुनिटी रोवर ने मंगल पर बिताए पांच हजार दिन, अब नष्ट होंने...

अपॉर्चुनिटी रोवर ने मंगल पर बिताए पांच हजार दिन, अब नष्ट होंने की आशंका…

48
0
SHARE
नासा ने अपने मंगल अभियान के तहत इसे 2003 में इसे लांच किया था और यह पिछले 14 सालों से सक्रिय था.फोटो:-गूगल..

मंगल की सतह पर 15 वर्ष परा करने वाला नासा का अपॉर्चुनिटी रोवर सात महीने पहले मंगल या यूँ कहें कि लाल ग्रह पर आए तूफ़ान के कारण अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा से संपर्क टूट गया था.

 ज्ञात है कि, मंगल ग्रह पिछले साल जून में धूल भरी आंधी के कारण नासा का अपॉर्चुनिटी रोवर अपने सौर पैनलों में बिजली पैदा न कर पाने के कारण निष्क्रिय हो गया था. वैज्ञानिकों ने उसके नष्ट होने की आशंका जताई है. अपॉर्चुनिटी रोवर के साथ वैज्ञानिकों का अंतिम संपर्क 10 जून 2018 को हुआ था. तूफ़ान शांत होने के बाद मिशन की टीम ने रोवर से बार बार संपर्क स्थापित करने की कोशिश की लेकिन रोवर शांत रहा.

बताते चलें कि, नासा ने अपने मंगल अभियान के तहत इसे 2003 में इसे लांच किया था. इस रोवर के शुरुआती अभियान की अवधि 92 दिनों की तय की गई थी. लेकिन यह पिछले 14 सालों से सक्रिय था.

वैज्ञानिकों के अनुसार, मंगल ग्रह पर परसेवरेंस वैली में सौर संचालित रोवर के ठहराव स्थल के ऊपर धूल छाने के कारण रोवर को सूर्य की रोशनी नहीं मिल सकी थी जिसके कारण उसकी बैटरियां चार्ज नहीं हो पाई थीं. खगोलविदों का कहना है कि, रोवर तक सूर्य की बहुत कम रोशनी पहुंचने के कारण वह शीतनिद्रा में पहुंच गया है.