अपने विचारधारा के प्रति प्रतिबद्धता रखने के साथ ही दूसरे के विचारों...

अपने विचारधारा के प्रति प्रतिबद्धता रखने के साथ ही दूसरे के विचारों के प्रति भी मन में आदर का भाव रखिये:- मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

12
0
SHARE
हमें अपने विचारों को व्यक्त करने एवं अपने धर्म का पालन करने की पूरी स्वतंत्रता है लेकिन दूसरे धर्म, सम्प्रदाय के प्रति भी मन में सम्मान का भाव होना चाहिए. फोटो:-आईपीआरडी, पटना.

गुरुवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने स्व० देवेन्द्र राय की तीसरी पुण्य तिथि के मौके पर सगुना मोड़ स्थित माँ लक्ष्मी भवन में स्व० देवेन्द्र राय उर्फ नन्कुट पहलवान की प्रतिमा का अनावरण करने के बाद मूर्ति पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि, स्व० देवेन्द्र रायकी पुण्य तिथि के मौके पर उनके परिजनों ने गरीब-गुरबों को आर्थिक मदद देने के साथ ही दिव्यांग लड़कियों के बीच साईकिल एवं पौधा वितरित करने का फैसला लिया है, यह काफी सराहनीय है और इस तरह के आयोजन में शामिल होकर मुझे काफी खुशी हुई है, इसके लिए स्व० देवेन्द्र राय के परिजनों को मैं विशेष तौर पर बधाई देता हूँ. उन्होंने कहा कि, स्व० देवेन्द्र राय अपने जीवन काल में न सिर्फ गरीब-गुरबों की काफी मदद करते थे बल्कि समाज में प्रेम एवं भाईचारा का भाव पैदा करने के लिए वे हमेशा प्रयत्नशील रहे, जिसकी आज काफी जरूरत है. उन्होंने कहा कि आज दुनिया भर में और पूरे देश में आपसी कटुता बढ़ाने का माहौल पैदा किया जा रहा है. हमें अपने विचारों को व्यक्त करने एवं अपने धर्म का पालन करने की पूरी स्वतंत्रता है लेकिन दूसरे धर्म, सम्प्रदाय के प्रति भी मन में सम्मान का भाव होना चाहिए. उन्होंने कहा कि आप अपने विचारधारा के प्रति प्रतिबद्धता रखने के साथ ही दूसरे के विचारों के प्रति भी मन में आदर का भाव रखिये.

मुख्यमंत्री कुमार ने कहा कि, न्याय के साथ विकास के प्रति हमारी प्रतिबद्धता शुरू से है, जिसका मतलब है हर तबके और हर इलाके का विकास. उन्होंने कहा कि बिहार की बागडोर संभालने के बाद समाज में व्याप्त कठिनाइयों को दूर करने का हरसंभव प्रयास किया गया. इस कड़ी में पूरे बिहार में आवागमन को सुगम बनाने के लिए सड़क, पुल-पुलियों का निर्माण, स्कूलों की व्यवस्था के साथ ही हर क्षेत्र में विकास के काम किये गये. उन्होंने कहा कि 2005 में सत्ता संभालने के बाद हमने आकलन कराया तो पता चला कि, 12.5  प्रतिशत बच्चे स्कूलों से बाहर हैं, जिनमें अधिकांश बच्चे महादलित और अल्पसंख्यक परिवार से थे, उन्हें स्कूलों तक पहुँचाने की व्यवस्था सुनिश्चित की गयी. उन्होंने कहा कि गरीबी के कारण माता-पिता अपने बच्चों को इंटरमीडिएट से आगे की पढ़ाई करा पाने में अक्षम थे, जिसके कारण 12वीं से आगे की पढ़ाई करने वाले बच्चों का बिहार में औसत 13.9 प्रतिशत था, जबकि राष्ट्रीय औसत 24 प्रतिशत है, जिसे देखते हुए हमने स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना की शुरुआत की.  इस योजना के तहत इंटरमीडिएट से आगे की पढ़ाई करने वाले बच्चों को चार (04) लाख रूपये तक का ऋण मुहैया कराने का प्रावधान है. उन्होंने कहा कि इस योजना के प्रति बैंको के असहयोगात्मक को देखते हुए राज्य सरकार ने शिक्षा वित्त निगम गठित कर इस योजना का लाभ विद्यार्थियों को देना शुरू किया है, जिसका लाभ अब आसानी से जरूरतमंद विद्यार्थी ले रहे हैं.

मुख्यमंत्री कुमार ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि आप सभी अपने बेटे-बेटियों को इंटरमीडिएट से आगे पढ़ायें और जरूरत के मुताबिक स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना का लाभ उठायें. अगर पढ़ाई के बाद भी किसी छात्र को रोजगार नहीं मिला तो उस स्थिति में उसे पैसा लौटाने के लिए बाध्य नहीं किया जाएगा. उन्होंने कहा कि बेटे-बेटियों को पढ़ाइये, इसके लिए चिंता आपको करने की आवश्यकता नहीं है, यह हमारी चिंता है. उन्होंने कहा कि शिक्षा को बढ़ावा देने के प्रति भी स्व० देवेन्द्र राय के परिजनों की काफी रूचि है, जिसका नतीजा है कि स्व० राय की श्रद्धांजलि सभा के अवसर पर आज आर्थिक रूप से कमजोर मेधावी बच्चों को आर्थिक मदद प्रदान की गयी. उन्होंने कहा कि, 1500 साल पहले आर्यभट्ट ने इसी धरती पर शून्य का आविष्कार किया था, जिसके बाद अंकगणित का विस्तार हुआ. यह ज्ञान की भूमि रही है, जहाँ से आर्यभट्ट ने दुनिया को एस्ट्रोनॉमी से अवगत कराया.

स्व० राय की श्रद्धांजली सभा में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का भव्य स्वागत किया गया. श्रद्धांजलि सभा को लेकर बने मंच पर मुख्यमंत्री को पुष्प-गुच्छ, शॉल, प्रतीक चिन्ह भेंट करने के साथ ही फूलों की बड़ा माला पहनाकर स्व० देवेन्द्र राय के परिजनों एवं स्थानीय नेताओं ने उनका स्वागत किया. श्रद्धांजलि सभा में मुख्यमंत्री कुमार ने दिव्यांग लड़कियों को ट्राई-साइकिल एवं पौधा जबकि आर्थिक रूप से कमजोर मेधावी छात्राओं को आर्थिक मदद के रूप में चेक भी  प्रदान किया. श्रद्धांजलि सभा को बिहार विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी, उद्योग मंत्री जय कुमार सिंह, पूर्व मंत्री एवं विधान पार्षद अशोक कुमार चौधरी ने भी संबोधित किया.

इस अवसर पर पूर्व विधान पार्षद गुलाम गौस, स्व० देवेन्द्र राय की धर्मपत्नी लक्ष्मी देवी, स्व0 देंवेंद्र राय के सुपुत्र विनोद कुमार, सुबोध कुमार यादव, बिजेंद्र यादव, बिहार राज्य नागरिक परिषद के पूर्व महासचिव अरविंद कुमार सिंह उर्फ छोटू सिंह, दानापुर प्रखंड प्रमुख सुनील कुमार यादव, जिलाधिकारी कुमार रवि सहित अन्य जनप्रतिनिधि एवं स्थानीय लोग उपस्थित थे.